Sat. Mar 6th, 2021

*B B C टाइम्स इन* रतलाम 23 फरवरी । केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर दिया जाने वाला “अति उत्कृष्ट सेवा पदक” व “उत्कृष्ठ सेवा पदक” के लिए मध्य प्रदेश पुलिस से कुल 182 पुलिस कर्मियों को सम्मानित किया जाएगा ।
उक्त पदक पाने वालो मे जिला रतलाम मे अपनी सेवा देना वाले कुल 4 पुलिस कर्मियों को इन पुरुसकरो हेतु चयन किया गया है :-
अति उत्कृष्ट सेवा पदक -उप निरीक्षक(M) श्री विनोद त्रिपाठी

“अति उत्कृष्ट सेवा पदक” हेतु रतलाम ज़िले से एक मात्र पुलिस अधिकारी सब इंस्पेक्टर(M) श्री विनोद त्रिपाठी का चयन हुआ है । वर्तमान मे श्री विनोद त्रिपाठी रतलाम पुलिस उप महानिरीक्षक कार्यालय में पदस्थ रहकर अपनी उत्कृष्ठ सेवाए प्रदान कर रहे है । सेवा निवृत प्रधान अध्यापक श्री घनश्याम त्रिपाठी के पुत्र विनोद त्रिपाठी रतलाम से पहले मंदसौर में पदस्थ रहकर अपनी उत्कृष्ट सेवाए प्रदान की है । श्री त्रिपाठी द्वारा अपनी लंबी सेवा अवधि मे कभी भी अपने कर्तव्य के प्रति उदासीनता नहीं बरती, एवं अपने कर्तव्य को सदा तत्परता व सत्यनिष्ठा के साथ निभाया, जिसके फलस्वरूप सम्पूर्ण सेवा अवधि मे इन्हे कई बार पुरुसकृत किया गया है, व सम्पूर्ण सेवा काल मे किसी प्रकार का दंड प्राप्त नहीं हुआ है । अतः इनकी उत्कृष्ट सेवा हेतु इन्हे केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर दिया जाने वाला “अति उत्कृष्ठ सेवा पदक” प्रदान किया गया है ।
उत्कृष्ट सेवा पदक – आरक्षक 243 श्री राजेंद्र पानेरी

वर्ष 1995 मे श्री राजेंद्र पानेरी द्वारा पुलिस विभाग मे आरक्षक के रूप मे सेवा देना प्रारम्भ किया व जिला रतलाम मे भर्ती होने के उपरांत वर्ष 1999-2000 नक्सल प्रभावी क्षेत्र अबूझमाड़ छत्तीसगढ़ मे अपनी सेवाए देने के उपरांत निरंतर जिला रतलाम मे अपनी उत्कृष्ठ सेवाए प्रदान कर रहे है ।
रतलाम जिले के करीब 4 थानो मे अपनी सेवाए देने के उपरांत वर्तमान मे अभियोजन शाखा रतलाम मे पदस्थ होकर अपनी सेवाए दे रहे है । श्री राजेंद्र के पिता भी रिटायर्ड पुलिस अधिकारी है, जो उनके प्रेरणा स्त्रोत है । श्री राजेंद्र पानेरी द्वारा अपनी 24 वर्ष की लंबी सेवा अवधि मे कभी भी अपने कर्तव्य के प्रति उदासीनता नहीं बरती, जिसके फलस्वरूप सम्पूर्ण सेवा अवधि मे इन्हे किसी प्रकार का दंड प्राप्त नहीं हुआ है । अतः इनकी उत्कृष्ट सेवा हेतु इन्हे केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर दिया जाने वाला “उत्कृष्ठ सेवा पदक” प्रदान किया गया है ।
*आरक्षक 204 श्री हंसराज सिंह – वर्ष 2000 मे 1st बटालियन इंदौर मेआरक्षक के रूप मे अपनी सेवाए देना प्रारम्भ की व अपनी व काल मे वर्ष 2001 से 2006 के बीच स्पेशल टास्क फोर्स (STF) मे पदस्थ रह कर सम्पूर्ण मध्य प्रदेश मे कार्य किया ।
वर्ष 2016 मे हथियारो के रख रखाव सुधार कार्य से संबन्धित आर्मोरर का कोर्स करने के उपरांत वर्ष 2016 से निरंतर रक्षित केंद्र रतलाम मे आरमोरी शाखा मे पदस्थ रह कर अपनी सेवाए प्रदान कर रहे है । इनकी उत्कृष्ठ सेवाओ हेतु केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर दिया जाने वाला “उत्कृष्ठ सेवा पदक” प्रदान किया गया है ।
*आरक्षक 24 श्री जगदीशचंद्र दमामी*
वर्ष 2004 मे जिला रतलाम मे आरक्षक के रूप मे अपनी सवाए देना प्रारम्भ की । इसके उपरांत जिला रतलाम मे थाना माणक चौक, थाना औधोगिक क्षेत्र रतलाम मे पदस्थ रहकर सेवाए दी व वर्तमान मे थाना नामली मे पदस्थ है । श्री जगदीश द्वारा अपनी सम्पूर्ण सेवा काल मे निरंतर उत्कृष्ठ सेवा प्रदान की है, सेवा के प्रति समर्पित रहते हुए इनके द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों के हर वैध आदेश का पालन किया, सम्पूर्ण सेवा मे ये कभी भी सेवा से अनुपस्थित नहीं रहे है व कभी ऐसा कृत्य नहीं किया जिसके कारण इन्हे दंडित किया जावे । अतः इनकी उत्कृष्ट सेवा हेतु इन्हे केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर दिया जाने वाला “उत्कृष्ठ सेवा पदक” प्रदान किया गया है ।

You missed