Sat. Mar 6th, 2021

*B B C टाइम्स इन* रतलाम 22 फरवरी सोमवार कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स रतलाम जिला इकाई के अध्यक्ष वरुण पोरवाल एवं सचिव मनोज सिंगावत ने बताया कि केंद्र सरकार द्वारा 2021-22 के बजट में जीएसटी को लेकर जो नए प्रवधान जोड़े गए है, उनसे पूरे देश के व्यापारियों में रोष है। कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) जीएसटी के संशोधित प्रावधानों का कड़ा विरोध करता है इसी संदर्भ में कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स रतलाम इकाई के नेतृत्व में 24 फरवरी 2021 बुधवार को शहर की सभी व्यवसायिक संस्थाओं की बैठक आयोजित की गई है l
जीएसटी के मूल स्वरूप के साथ खिलवाड़ किया गया है , बैठक में जीएसटी विशेषज्ञ भी मौजूद रहेंगे एवं व्यापारियों को सरकार द्वारा जीएसटी संबंधित जटिलताओं के बारे में अवगत कराएंगे
इस बैठक का उद्दयेश्य किसी राजनैतिक दल विशेष का विरोध करना नही है, बल्कि जीएसटी के कठोर संशोधित प्रावधानों का विरोध है। यह बैठक व्यापारियों द्वारा व्यापारियों के लिए रखी जा रही है l

जीएसटी की वर्तमान कर प्रणाली बेहद जटिल हो गई है , इसलिए व्यवसायियों की सरकार से माँग है की जीएसटी क़ानून एवं नियमों की दोबारा समीक्षा की जाए और जीएसटी सरलीकरण किया जाए , ऐसे कठोर प्रावधान माननीय राष्ट्रपति की मोहर लगने से पहले वापस होने चाहिए.

कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स, भारत के व्यापारियों की शीर्ष संस्था है जिसमें संपूर्ण भारत में 6 करोड से अधिक व्यापारीगण जुड़े हैं, बैठक 24 फरवरी बुधवार सेठिया गार्डन में शाम 5:00 बजे आयोजित की गई है जिसमें शहर की प्रमुख व्यावसायिक संस्थाओं के पदाधिकारीगण शामिल होंगे l

You missed